ई-कॉमर्स बिजनेस कैसे शुरू करें? E-commerce business

नमस्कार दोस्तों यह है, जैसा कि हम ई-कॉमर्स के बारे में बात करने जा रहे हैं। भारत में E-commerce उद्योग बहुत तेजी से बढ़ रहा है रोजाना लाखों products इस पर बेचे और खरीदे जा रहे हैं। अगर आप भी e-commerce के माध्यम से अपना business विकसित करना चाहते हैं। इसे शुरू करने के लिए विचार और पर्याप्त जानकारी नहीं है और यह पूरी प्रणाली कैसे काम करती है तो इस post में हम ई-कॉम के मूल के बारे में बात करेंगे कि मूल रूप से कैसे अपने उत्पाद है।

e-commerce business kaise

ई-कॉमर्स कैसे (E-commerce)

आप कैसे e-commerce के माध्यम से अपने व्यापार को बढ़ा सकते हैं। या यह प्रणाली कैसे काम कर रही है? अधिकतर products को ऑनलाइन बेचने के दो तरीके हैं।

पहला यह है कि आप अपना ख़ुद का ई-कॉम स्टोर विकसित कर सकते हैं। जिसमें आपको अपनी ख़ुद की वेबसाइट बनानी होगी और जिसमें मार्केटिंग और ब्रांडिंग के जरिए आप कॉस्ट्यूमर लाएंगे।

जिस पर खरीदार आपके products खरीद सकता है और दूसरे-दूसरे तरीके का बहुत अधिक उपयोग किया जा रहा है और यह अन्य की तुलना में थोड़ा आसान है और यह है।

मार्केटप्लेस के बारे में (Marketplace)

बाजार स्थानों के माध्यम से मुझे मार्केटप्लेस के बारे में, आपने Flipkart, Snapdeal, amazon के बारे में सुना होगा। ये सभी मार्केट प्लेस कंपनी हैं। इसका मतलब है कि यह विक्रेता प्रणाली पर काम करता है।

जिसका मतलब है वहाँ के हर products के लिए विभिन्न विक्रेता उपलब्ध हैं। मेरा मतलब है कि कोई उस पर जूते बेच रहा है कुछ मोबाइल accesories बेच रहे हैं। कुछ अन्य लोग रसोई के उत्पाद बेच रहे हैं।

हर कोई अपनी श्रेणियों के अनुसार उस पर बेच रहे हैं। मैंने कहा क्योंकि यह आसान है, ये कंपनियाँ पहले ही वहाँ काम कर चुकी हैं। ब्रांडिंग की है और अपना नाम बनाया है। आप टीवी पर विज्ञापन देख सकते हैं और आपको अपने पास बड़ी जोत दिखाई दे सकती है।

जिसमें वे वहाँ ख़ुद का विज्ञापन करते हैं और ज्यादातर लोग उन्हें जानते हैं जैसा आपने देखा होगा। कि जब कोई उत्पाद खरीदता है वे सीधे अपनी वेबसाइट पर जाते हैं और अपने उत्पाद को खोजते हैं।

उसके बाद और फिर वे इसे वहाँ से खरीदते हैं तो ऐसे में आपके लिए मार्केटिंग की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि ये कंपनियाँ पहले ही कर चुकी हैं। उनके products नाम और बनाया वे उन्हें अपने प्रचार और विपणन कर रहे हैं। दूसरे दूसरा वे विक्रेता के रूप में पंजीकरण के लिए कुछ भी शुल्क नहीं लेते हैं।

आपका प्रोडक्ट प्लेटफॉर्म से (Product platform)

जब भी आपका products वहाँ के प्लेटफॉर्म से बिके वे कमीशन के रूप में कुछ पैसे लेते हैं। अभी सबसे पहले अपने products को उनके बाज़ार पर ऑनलाइन बेचने के लिए आपको एक विक्रेता के रूप में पंजीकृत होना होगा।

तो, इस पर एक विक्रेता के रूप में पंजीकरण करने के लिए आपको कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। जैसे आपके पास जीएसटी नंबर होना चाहिए, उसके बाद आपका बैंक खाता, इसके बाद आपका पैन कार्ड,

अगर आप PVT कंपनी चला रहे हैं फिर आपको कंपनियों को पैन कार्ड प्रदान करना होगा। इसमें आपके ईमेल पते और मोबाइल नंबर की आवश्यकता होगी और जब आप इन सभी दस्तावेज़ को इन कंपनी को प्रदान करते हैं।

प्रोडक्ट बेचना चाहते हैं (Product Selling)

आप विक्रेता के रूप में पंजीकृत हो जाते हैं और जब आप उस पर विक्रेता के रूप में पंजीकृत हो जाते हैं और फिर आप shiop पर आते हैं जिसका मतलब है कि अब आप उस पर आपको products बेचने के लिए तैयार हैं।

अभी आइए अब हम आंतरिक प्रक्रिया को समझें उस आदेश कैसे आता है और यह प्रणाली कैसे काम करती है विक्रेता के रूप में पंजीकरण के बाद ये कंपनियाँ आपको एक पैनल प्रदान करती हैं,

इस पैनल की मदद से आप इन वेबसाइट पर अपना उत्पाद सूचीबद्ध कर सकते हैं। आप उत्पादों की क़ीमत का प्रबंधन कर सकते हैं और आपके द्वारा प्राप्त किए जाने वाले सभी आदेश इस पैनल में दिखाए जाएंगे इसलिए आप जो भी products बेचना चाहते हैं।

आइटम के बारे में बताता (About the item)

आपको मूल रूप से जो करना है, वह है आपको आइटम की तस्वीरें चाहिए, जो स्पष्ट रूप से आइटम के बारे में बताता है आपको ये तस्वीरें अपने पैनल पर अपलोड करनी होंगी।

आपको इसे एक नए products के रूप में जोड़ना होगा। उसके बाद आपको प्रोडक्ट की सारी जानकारी बतानी होगी, जैसे कि किस केस में यह गिरता है हम कहते हैं कि यह छूट है।

आपने ऑनलाइन शॉपिंग में देखा होगा कि हर उत्पाद के नीचे इसका वर्णन है जिससे खरीदार यह समझते हैं कि किस ज़रूरत के लिए इसका उपयोग किया जाता है। जैसा कि आपका products वेबसाइट पर सूचीबद्ध है तब यह बिकने के लिए तैयार हो जाता है। मान लीजिए कि कोई ग्राहक उस products को खरीदना चाहता है।

कॉस्ट्यूमर तक पहुँचाना (Deliver costumer)

costumer वेबसाइट पर जाता है और उत्पाद का नाम खोजें और जब वह आपके products को पा लेगा। फिर वह उसे वहाँ से खरीदता है और जब वह products खरीदता है तब पैनल जो कंपनी ने आपको प्रदान किया है।

आदेश को अपने आदेश के रूप में सूचीबद्ध करना शुरू कर देंगे और फिर आपको उस ऑर्डर को प्रोसेस करना होगा। आपको अपने पैनल में लॉगिन करना होगा,

उस आदेश के कुछ लेबल होंगे आपको उस लेबल को प्रिंट करना होगा और आप के बाद अपने आदेश पैक होगा। आप उस पर लेबल चिपका देंगे और उसके बाद जो काम करना बाक़ी है।

ग्राहक को हस्तांतरित करना (Transfer)

आप से उत्पाद उठा और इसे कॉस्ट्यूमर तक पहुँचाना, मतलब आप से उत्पाद लेना और ग्राहक को हस्तांतरित करना और यह कार्य सम्बंधित बाज़ार द्वारा ही किया जाता है,

उदाहरण के लिए यदि आपके आदेश अमेज़न से हैं इसलिए जब उत्पाद पर लेबल लगाएँ, और इसे sip के लिए तैयार करें अमेज़ॅन की कूरियर सुविधा आपके पास आती है।

जहाँ भी आपरेटिंग कूरियर व्यक्ति आप तक पहुँचेंगे अमेज़ॅन की कूरियर सुविधा आपके पास आती है और उत्पाद लें और इसे ग्राहक को वितरित करें वही Flipkart के लिए है, स्नैप डील उनके पास समान प्रणाली है उनके अपने कूरियर वाले व्यक्ति वहाँ आते हैं और ग्राहक को उत्पाद वितरित करते हैं।

सेल प्रोडक्ट्स वितरित (Products Distributed)

प्रोडक्ट्स वितरित 3-4 दिनों के बाद जब उत्पाद वितरित किया जाता है। तब आपके products की मात्रा अपने आप हो जाती है अपने बैंक खाते में प्रतिबिंबित करें और जो राशि आपके खाते में आती है।

उनके कमीशन के सभी कटौती के बाद, शेष राशि है आपके खाते में स्थानांतरित कर दिया जाएगा तो, यह है कि यह प्रणाली कैसे काम करती है तो,

जैसा कि यह post ” ई-कॉमर्स बिजनेस सेल प्रोडक्ट्स, मैंने ई-कॉमर्स के बेसिक बताने की कोशिश की और अगर फिर भी आपको कोई संदेह है या आप कुछ पूछना चाहते हैं। आप नीचे कमेंट कर सकते हैं और मैं निश्चित रूप से सभी को जवाब देने की कोशिश करूंगा।

Read:-

1 thought on “ई-कॉमर्स बिजनेस कैसे शुरू करें? E-commerce business”

Leave a Comment

2 × 1 =